सोमवार, 16 अगस्त 2010

रिशता


पीपल की नई कोंपले और सरसों के खेत का पीला होना
हवाओं की अठखेलियां और उसके पुरवाई में फूलों का इतराना
उतरते जाड़े का स्पर्श
और जाते ठंड में गुनगुनाना
गुनगुनी धूप की गुदगुदाहट और उसके नर्म घास पर नंगे पांव चलना
शरीर का अल्हड़पन और उसके दिल का गुलाबी होना
सांसों की गरमी का बढ़ना और उसका तेजी से चलना हां ये बसंत है ..
पिया बसंत रे शहर के तड़क भड़क में आ जा
और उसके कमरे में समा जा उसकी खिड़कियों को आवाज दे जा
वहां रहने वालों को बता जा तू बसंत है
जीवन से तेरा ये रिशता है

3 टिप्‍पणियां:

  1. क्या आप "हमारीवाणी" के सदस्य हैं? हिंदी ब्लॉग संकलक "हमारीवाणी" में अपना ब्लॉग जोड़ने के लिए सदस्य होना आवश्यक है, सदस्यता ग्रहण करने के उपरान्त आप अपने ब्लॉग का पता (URL) "अपना ब्लाग सुझाये" पर चटका (click) लगा कर हमें भेज सकते हैं.

    सदस्यता ग्रहण करने के लिए यहाँ चटका (click) लगाएं.

    उत्तर देंहटाएं